देहरादून: मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत शनिवार को दिल्ली का दौरा करेंगे। पहले कुंभ और फिर कोरोना की दूसरी लहर के प्रकोप से निपटने में व्यस्तता, लंबे अंतराल के बाद हो रहे मुख्यमंत्री के इस दौरे को राज्य के लिए केंद्र से मदद हासिल करने के लिहाज से अहम माना जा रहा है, साथ में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर भी उन्हें रणनीतिक निर्देश केंद्र से मिल सकते हैं। संक्रमण के मामलों में कमी आई है। हालांकि स्थिति को पूरी तरह काबू करने की चुनौती सरकार के सामने अब भी है। इस अहम मौके पर मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत शनिवार को दिल्ली जाएंगे। वह गृह मंत्री, स्वास्थ्य मंत्री समेत अन्य केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात कर सकते हैं।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के दिल्ली दौरे के दौरान उनकी विधानसभा सीट को लेकर भी चर्चा होने के आसार हैं। तीरथ अभी पौड़ी गढ़वाल सीट से सांसद हैं। उन्हें छह माह के भीतर विधानसभा चुनाव लड़ना है। वह कहां से चुनाव लड़ेंगे, इसे लेकर अभी उच्च स्तर पर फैसला लिया जाना है। माना जा रहा है कि इस मुद्दे पर निर्णय लिया जा सकता है। वहीं 2022 में विधानसभा चुनाव को देखते हुए मुख्यमंत्री के सामने कम वक्त बचा है। ऐसे में विकास कार्यों को अंजाम देने की चुनौती सरकार के सामने है। मुख्यमंत्री इस मुद्दे पर केंद्र सरकार और पार्टी आलाकमान के साथ चर्चा कर सकते हैं।

प्रदेश सरकार में दायित्व की आस लगाए बैठे भाजपा नेताओं विभिन्न निगमों व प्राधिकरणों में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष के पदों पर नवाजने की तैयारी है। वरिष्ठ कार्यकत्र्ताओं को उनकी अपने-अपने क्षेत्रों में जनता में पकड़ समेत अन्य बिंदुओं की कसौटी पर परखने के बाद दायित्व दिए जाएंगे। उधर, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के अनुसार दायित्व वितरण के सिलसिले में जल्द ही मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के साथ पार्टी नेतृत्व की बैठक होगी। उन्होंने उम्मीद जताई कि इस माह तक दायित्व वितरण हो सकता है। मुख्यमंत्री कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री दिल्ली में केंद्रीय मंत्रियों के साथ ही पार्टी पदाधिकारियों से मुलाकात कर विभिन्न विषयों पर विमर्श करेंगे। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के दिल्ली पहुंचने के बाद मुलाकात का कार्यक्रम तय होगा। यही वजह है कि मुख्यमंत्री की दिल्ली से वापसी का कार्यक्रम तय होना बाकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here